बैतूल सहित बदले जा सकते हैं आधा दर्जन जिलों के एसपी

भोपाल। विधानसभा सत्र समाप्त होने के बाद राज्य सरकार एक बार फिर से आईपीएस अफसरों की एक और तबादला सूची जारी करने की तैयारी में है। आगामी लिस्ट में भोपाल के एसपी साउथ संपत उपाध्याय का नाम शामिल होने की संभावना है। सूत्रों का दावा है कि एसपी स्वेच्छा से ट्रांसफर चाहते हैं।  आगामी सूची में भोपाल सहित आधा दर्जन जिलों के एसपी और तीन रेंज आईजी के नाम संभावित हैं। माना जा रहा है कि यह सूची कभी भी जारी की जा सकती है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ का दुबई दौरा निरस्त होने के बाद माना जा रहा है कि फेरबदल जल्द होगा। फेरबदल में जिन जिलों के प्रभावित होने की संभावना है उनमें भोपाल दक्षिण, होशंगाबाद, छतरपुर, बैतूल, सतना, भिंड और दतिया प्रमुख हैं। दतिया एसपी कल्याण चक्रवर्ती और बैतूल एसपी कार्तिकेयन प्रतिनियुक्ति पर जा रहे हैं। इस वजह से इन दोनों ही जिलों में नए एसपी पदस्थ किया जाना हैं, तो वहीं होशंगाबाद में प्रदेश सरकार के एक मंत्री के रिश्तेदार का जाना लगभग तय माना जा रहा है। भोपाल दक्षिण के एसपी संपत उपाध्याय को स्वतंत्र जिले में भेजने की तैयारी की जा रही है। उन्हें बैतूल या अन्य किसी जिले की कमान सौंपी जा सकती है। भिंड और छतरपुर एसपी की कांग्रेस के दूसरे गुटों के नेताओं से पटरी नहीं बैठ पाने की शिकायतें मिल रही हैं। सतना एसपी रियाज इकबाल को कांग्रेस का एक खेमा बनाए रखना चाहता है, जबकि दूसरा खेमा हटाना चाह रहा है। पीएचक्यू की मंशा भी नहीं हटाने की है। राजनीतिक दबाव में बदला जा सकता है।

तीन आईजी भी बदलने की तैयारी

इसी तरह से होशंगाबाद, सागर और उज्जैन रेंज आईजी के प्रभावित होने के आसार हैं। होशंगाबाद रेंज आईजी रहे मकरंद देउस्कर के हटने के बाद से वह पद रिक्त है। होशंगाबाद में आईपी कुलश्रेष्ठ और उज्जैन जयदीप प्रसाद या डा. रमन सिंह सिकरवार को भेजा जा सकता है। सागर आईजी की तलाश की जा रही है। बताते हैं कि सागर आईजी के तौर पर ऐसे अफसर को भेजने की तैयारी है, जो पहले सागर में एसपी या डीआईजी के तौर पर पदस्थ रहे हों। ऐसे में यह देखना होगा कि सरकार किस अफसर का चुनाव करती है।

डीपीसी में हुई देरी

एसपीएस से आईपीएस अफसरों की डीपीसी में भी काफी देरी हो गई है। एसएएस से आईएएस बनने वाले अफसरों की डीपीसी बहुत पहले हो गई थी। उनकी पदोन्नति का नोटीफिकेशन जारी होने वाला है। राज्य वन सेवा से आईएफएस बनाने के लिए भी डीपीसी 31 जुलाई को दिल्ली में होने जा रही है। ऐसे में सिर्फ आईपीएस बनने वाले अफसर पीछे रह गए हैं। इसमें कितना समय लगेगा, कहा नहीं जा सकता, क्योंकि राज्य पुलिस सेवा के अफसर आपस में ही एक दूसरे का विरोध कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *