मंत्रियों के व्यवहार पर विधायकों ने फिर उठाए सवाल, सीएम ने बुलाई कैबिनेट की अनौपचारिक बैठक

भोपाल। कर्नाटक-गोवा के बाद एमपी में भी कांग्रेस के अंदर कुछ ठीक नही चल रहा है।  दो दिन पहले हुई विधायक दल की बैठक के बाद आज फिर सीएम कमलनाथ ने कैबिनेट की अनौपचारिक बैठक गई। खबर है कि बीएसपी ,सपा और निर्दलीय विधायको की मंत्रियो के व्यवहार पर सवाल उठाए जाने के बाद यह बैठक आनन-फानन में बुलाई गई। खास बात ये है कि बैठक से पहले पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने सीएम कमलनाथ से मुलाकात की । हालांकि दोनों के बीच क्या चर्चा हुई यह अभी स्पष्ट नही हो पाया है। सुत्रों की माने तो विधायकों की मंत्रियों से नाराजगी और मीडिया में हुई बयानबाजी को लेकर दोनों के बीच बातचीत हुई।

दरअसल, दो दिन पहले कमलनाथ ने विधायक दल की बैठक बुलाई थी। जिसमें  बसपा विधायक संजीव सिंह और सपा विधायक राजेश शुक्ला नहीं पहुंचे, जिसकों लेकर चर्चा होती रही।सूत्रों का कहना था  कि वे इस बात से नाराज हैं, क्योंकि विकास के मामले में मंत्री उनके क्षेत्रों को प्राथमिकता नहीं दे रहे हैं। वही बैठक से पहले मीडिया से चर्चा के दौरान बसपा विधायक रामबाई ने एमपी में भी कर्नाटक और गोवा जैसे हालत होने की बात कही थी। रामबाई का कहना था कि कर्नाटक और गोवा की तरह मध्यप्रदेश सरकार को भी खतरा है। यदि इस स्थिति में मुझे मंत्री नहीं बनाया तो क्या फायदा।  साथ ही उन्होंने कहा था कि विकास के मामले में उनके क्षेत्रों को प्राथमिकता मिलनी चाहिए।उनकी मंत्री नहीं सुनते। वही अन्य विधायकों ने भी मंत्रियों से कहा जाए कि वे विधायकों को तवज्जो दें।मंत्री विधायकों की सुनते नही।

इस बयानबाजी को विपक्ष ने भी मुद्दा बना दिया और अब सरकार पर जमकर हमले बोल रही है। सरकार को लेकर तरह तरह के सवाल उठाए जा रहे है। जिसके चलते कमलनाथ ने आज शुक्रवार को केबिनेट की अनौपचारिक बैठक बुलाई गई है। वही बैठक के पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय ने सीएम कमलनाथ से मुलाकात की है। खबर है कि बैठक मे कमलनाथ सभी मंत्रियो को विधायको के साथ सही बर्ताव को लेकर निर्देश दे सकते है। वही लगातार मिल रही शिकायतों के बाद मंत्रियों की क्लास भी लगाई जा सकती है।

बीजेपी के संपर्क में समाजवादी पार्टी के कई राज्‍यसभा सांसद, जल्‍द बदल सकते हैं पार्टी

समाजवादी पार्टी (सपा) के दो-तीन राज्‍यसभा सांसदों के बीजेपी में शामिल होने की संभावना है. बीजेपी सूत्रों की मानें तो ये सांसद लगातार बीजेपी के संपर्क में हैं. इनसे कई दौर की बातचीत भी हो चुकी है. जल्‍द ही ये सपा छोड़कर बीजेपी में शामिल होने का ऐलान कर सकते हैं.

गौरतलब है कि नीरज शेखर के सपा छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के बाद अन्‍य सांसदों के भी बीजेपी ज्‍वॉइन करने की हलचलें तेज हो गई हैं. अमर सिंह भी समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सदस्य हैं लेकिन वह सपा का दामन छोड़ चुके हैं. इसके साथ ही कई बार पीएम मोदी और मुख्‍यमंत्री की तारीफ भी कर चुके हैं. लिहाजा उनके नाम की भी चर्चा हो रही हैं.

इनके अलावा मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सांसदों के भी बीजेपी से संपर्क साधने की जानकारियां मिल रही हैं.

अखिलेश से नाराजगी के चलते नीरज शेखर ने छोड़ी सपा

समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया. वह लोकसभा चुनाव में अपने परिवार की परम्परागत सीट बालिया से टिकट मांग रहे थे लेकिन समाजवादी पार्टी ने नहीं दिया था. लिहाजा नीरज शेखर तब से अखिलेश यादव और पार्टी नेतृत्व से नाराज़ चल रहे थे.

टीडीपी के सांसद बीजेपी में शामिल

गौरतलब है कि हाल ही में टीडीपी में भी बड़ी सेंध लगी है. टीडीपी के राज्यसभा के 6 में से 4 सांसद बीजेपी में शामिल हो गए. बीजेपी में शामिल होने वाले राज्यसभा सांसद हैं, टीजी वेंकटेश, सीएम रमेश, वाईएस चौधरी और जीएम राव. बीजेपी में दूसरी पार्टी से शामिल होने का सिलसिला जारी है. तृणमूल कांग्रेस के कई बड़े नेता अब तक बीजेपी में शामिल हो चुके है. लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल बीजेपी के लिए अहम राज्य साबित हुआ था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *