इस बार सावन में आ रहे हैं कई दुर्लभ संयोग, शिवपूजा से मिलेगी विशेष सिद्धि

महादेव को अति प्रिय सावन मास आज से शुरू हो गया है। पौराणिक मान्यता के अनुसार इस महीने में शिव आराधना करने से भक्त की मनोकामानाओं की पूर्ति होती है। इस महीने में शिव उपासना के लिए किए गए थोड़े से प्रयासों से ही शिव प्रसन्न हो जाते हैं। भोलेनाथ की पूजा के कई उपाय है जिनको करके देवादिदेव महादेव की कृपा प्राप्त की जा सकती है। लंबे समय बाद शिवप्रिय सावन मास में कुछ विशेष संयोग आए हैं। इन संयोगों में शिव पूजा को विधि-विधान से करके उत्तम फल की प्राप्ति की जा सकती है।

सर्वप्रथम इस बार सावन की अवधि 30 दिनों की है। इसका मतलब है कि भक्तों को तीस दिनों तक नीलकंठ के परमप्रिय मास में उनकी भक्ति कै अवसर प्राप्त होगा। इस दौरान शिवप्रिय वार सोमवार चार आएंगे। इसमें भी तीसरे वार को त्रियोग का संयोग बन रहा है जो विशेष फलदायी होगा।
उत्तराषाढ़ा नक्षत्र और विष कुंभ योग में प्रारंभ होगा सावन

17 जुलाई को सावन मास की शुरूआत उत्तराषाढ़ा नक्षत्र से दिन वज्र और विष कुंभ योग बन रहा है। एक अगस्त को हरियाली अमावस्या है। 125 सालों बाद हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का विशेष संयोग बन रहा है। हरियाली अमावस्या पर सिद्धि योग, शुभ योग, गुरु पुष्यामृत योग, सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग का दुर्लभ योग बन रहा है। इस विशेष दुर्लभ संयोग में शिव- पार्वती की पूजा करने से मनोकामना की पूर्ति होती है।

इस बार की नागपंचमी भी विशेष संयोग लिए हुए है। नागपंचमी सोमवार को आ रही है। इस दिन चंद्र प्रधान हस्त नक्षत्र और त्रियोग का संयोग भी बन रहा है। सर्वार्थ सिद्धि योग, सिद्धि योग और रवि योग अर्थात त्रियोग के संयोग में काल सर्प दोष निवारण के लिए पूजा करना अति उत्तम रहेगा।

आजादी का जश्न और रिश्तों का बंधन मनेगा साथ में

रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस दोनों एक ही दिन श्रवण नक्षत्र में मनाए जाएंगे। इसलिए आजादी के जश्न में लिपटा हुआ रिश्तों का पवित्र उत्सव मनाया जाएगा। रात्रि नौ बजे के बाद पंचक शुरू हो रहा है इसलिए इससे पूर्व राखी बंधवाना श्रेष्ठ होगा। इसके साथ ही 20 जुलाई को शुक्र ग्रह अस्त हो रहा है जो 22 सितंबर तक रहेगा। इस अवधि में किसी भी तरह के शुभ कार्य करना निषेध रहेगा।

इनके अलावा जुलाई में 20 तारीख को श्रावणी चतुर्थी और रविपुष्य का सिद्धिदायक योग बन रहा है। 28 जुलाई को कामदा एकादशी है और 30 जुलाई को महाशिवरात्रि का पर्व है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *