संगठन मंत्रियों के लिए आचार संहिता बनाएगी भाजपा

भोपाल/उज्जैन। भारतीय जनता पार्टी ने उज्जैन के संगठन मंत्री प्रदीप जोशी को हटा तो दिया, लेकिन अब पार्टी उन पर लगे आरोपों की तह तक जाएगी। पार्टी अब संगठन मंत्रियों के लिए एक आचार संहिता बनाने पर विचार कर रही है, ताकि संगठन के अहम पदों पर बैठे नेताओं पर अनैतिकता के छीटें न आ सकें। जोशी के वीडियो वायरल होने से भाजपा की साख को धक्का लगा है। कई वरिष्ठ नेताओं ने कहा है कि संगठन मंत्री का पद पार्टी में बहुत सम्मान से देखा जाता है। उधर, कांग्रेस ने वीडियो में नजर आ रहे युवक की हत्या की आशंका जताते हुए उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।

पार्टी नेताओं का हाथ

भाजपा सूत्रों का कहना है कि उज्जैन की घटना के पीछे पार्टी के ही कुछ नेताओं का हाथ बताया जा रहा है। पार्टी के ही कुछ लोगों द्वारा यह सवाल उठाया जा रहा है कि वीडियो किसी हमशक्ल का है। और उन्हें पद से हटाने की योजना के साथ तैयार कराया गया है।

जोशी ने लिखादोषमुक्त होने तक सभी दायित्वों से मुक्त करें

वीडियो व चैटिंग मामले के बाद संगठन मंत्री जोशी ने 6 जुलाई को प्रदेश अध्यक्ष को पत्र लिखा था। इसमें कहा गया था कि गत कुछ दिनों से सोशल मीडिया और मीडिया में मेरे विरुद्ध काफी अनर्गल व भ्रामक प्रचार चल रहा है। ऐसी परिस्थिति में मेरा पार्टी के किसी भी दायित्व पर रहना उचित नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *