येदियुरप्पा बोले- देखो और इंतजार करो, इस्तीफा दे मुंबई पहुंचे 11 कांग्रेस-जेडीएस विधायक

बेंगलुरु । कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार 13 महीने बाद 13 विधायकों के इस्तीफे से संकट में आ गई है। शनिवार को कांग्रेस के 10 और जेडीएस के 3 विधायकों ने विधासनभा स्पीकर के दफ्तर में अपने इस्तीफे सौंप दिए। 118 विधायकों के साथ चल रही सरकार के पक्ष में अब 105 ही विधायक है। दूसरी तरफ मुख्य विपक्षी दल बीजेपी भी 105 सीटों पर ही काबिज है। बीजेपी के सत्ता पर काबिज होने के आसार बढ़ गए हैं क्योंकि सोमवार को 5 से 6 और विधायकों के इस्तीफे देने की चर्चाएं हैं।
इस बीच सूबे के पूर्व सीएम और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा है कि इस पर अभी इंतजार करना होगा। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘आप राजनीतिक घटनाक्रम के बारे में जानते हैं। मैं अभी तुमकुर जा रहा हूं और शाम को 4 बजे लौटूंगा। देखिए और इंतजार करिए। मैं कुमारस्वामी और सिद्धारमैया के बयानों के बारे में कुछ नहीं कहना चाहता।’
हाइलाइट्स
कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार 13 महीने बाद 13 विधायकों के इस्तीफे से संकट में आ गई है
सरकार बचाने के लिए कांग्रेस नेताओं ने सोमवार को कैबिनेट की आपातकालीन मीटिंग बुलाई
स्पीकर रमेश कुमार बोले, अभी छुट्टी पर हूं, मंगलवार को करूंगा विधायकों के इस्तीफों पर विचार
105 विधायकों वाली बीजेपी 224 सदस्यीय विधानसभा में सरकार गठन की ओर बढ़ सकती है
दूसरी तरफ कांग्रेस के सीनियर लीडर मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मैं इस गठबंधन सरकार को आगे भी देखना चाहता हूं। जो भी सूचनाएं दी जा रही हैं, वह आधी-अधूरी हैं। सीनियर नेता रामलिंगा रेड्डी को लेकर खड़गे ने कहा कि वह सीनियर नेता हैं और उनकी समस्याओं को सुना जाएगा।
मौजूदा कुमारस्वामी सरकार रहेगी या फिर जाएगी, इस पर औपचारिक ऐलान मंगलवार या उसके बाद ही होगा। विधानसभा स्पीकर रमेश कुमार का कहना है कि रविवार को अवकाश है और सोमवार को वह छुट्टी पर रहेंगे। ऐसे में मंगलवार को ही विधायकों के इस्तीफों पर विचार करेंगे। इस बीच कांग्रेस विधायकों को पाले में लाने में जुटी है, लेकिन इस्तीफा देने वाले 13 विधायकों में से 11 स्पेशल फ्लाइट से मुंबई चले गए हैं और एक लग्जरी होटल में ठहरे हैं। इस बात के साफ संकेत हैं कि 105 विधायकों वाली बीजेपी 224 सदस्यीय विधानसभा में सरकार गठन की ओर बढ़ सकती है।
कुमारस्वामी सरकार पर यह संकट ऐसे समय पर आया है, जब वह अमेरिका के दौरे पर हैं। इस बीच सूबे में सरकार बचाने के लिए जेडीएस की बजाय कांग्रेस ही पूरी तरह से सक्रिय है। मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी से बातचीत के बाद राज्य कांग्रेस प्रभारी केसी वेणुगोपाल के नेतृत्व में सीनियर नेताओं ने सोमवार को कैबिनेट की आपातकालीन मीटिंग बुलाई है।
सूत्रों के मुताबिक इस मीटिंग में कांग्रेस और जेडीएस के 5 मंत्रियों को इस्तीफा देने के लिए राजी किया जाएगा ताकि नाराज चल रहे विधायकों को पद देकर संतुष्ट किया जा सके। हालांकि इन प्रयासों से सरकार बचने के आसार नहीं दिखते क्योंकि नाराज विधायक किनारा करने का मन बना चुके हैं। इस बात की पुष्टि इससे भी होती है कि सीनियर कांग्रेस लीडर और संकटमोचक कहे जाने वाले डीके शिवकुमार बीते कई महीनों से विधायकों को पाले में रखने के लिए प्रयास कर रहे हैं, लेकिन बात नहीं बनी। यही नहीं वह खुद शनिवार को विधानसभा स्पीकर के दफ्तर भी पहुंचे थे, जहां विधायक इस्तीफा देने के लिए गए थे, लेकिन किसी भी विधायक को मनाने में कामयाब नहीं हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *