रजनीश वैश नर्मदा मामलों के इनसायक्लोपीडिया- गोपाल रेड्डी

भोपाल। नर्मदा घाटी विकास विभाग में अद्य वर्ष का लंबा कार्यकाल पूरा करने के बाद मध्यप्रदेश के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी रजनीश वैश २९ जून २०१९ को सेवा निवृत्त हो गये। इस अवसर पर नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण की ओर से आयोजित बिदाई समारोह में अपर मुख्य सचिव तथा प्राधिकरण के उपाध्यक्ष गोपाल रेड्डी ने कहा श्री वैश का एक ही विभाग में इतना लंबा कार्यकाल एक उपलब्धि है। अपने गहन इंजिनियरिंग ज्ञान से श्री वैश ने परियोजनाओं के निर्माण पर अपनी छाप छोड़ी। नर्मदा घाटी विकास के विभिन्न पक्षो में इस असाधारण कार्यानुभव के चलते वे नर्मदा मामलों के इनसाक्लोपिडिया हैं।


श्री रेड्डी ने आशा व्यक्त की आवश्यकता पडऩे पर उनके ज्ञान और अनुभव का लाभ आगे भी मिलता रहेगा।

इस अवसर पर रजनीश वैश ने नर्मदा घाटी विकास विभाग और प्राधिकरण में अपने कार्य अनुभव साझा किये और कहा यह संयोग ही है कि उन्हें नर्मदा घाटी विकास विभाग में इतने लंबे समय तक कार्य करने का अवसर मिला। श्री वैश ने कहा कि उन्होंने यह अनुभव किया है कि नर्मदा घाटी विकास विभाग के सम्पूर्ण अमले पर अपने कार्य निष्पादन के दौरान नर्मदा के प्रति आस्था का तत्व मौजूद रहा है। इसी कारण विभाग कई चुनौतिपूर्ण परियोजनाओं का निर्माण सफलतापूर्वक कर पाया। नर्मदा घाटी विकास शिकायत निवारण प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष तथा मध्यप्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक संतोष कुमार राउत ने भी श्री वैश के साथ व्यतीत अनुभव साझा किये। बिदाई समारोह में नर्मदा घाटी विकास विभाग और नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के सभी वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का सफल संचालन एनवीडीए के सेवानिवृत्त पीआरओ आदिल खान ने किया।

वैश जीएसटीआई इंदौर के स्वर्ण पदक स्नातक
रजनीश वैश प्रतिष्ठित गोविन्दराम सेकसरिया टेक्नालॉजी इंस्टीट्यूट इंदौर से बीई इलेक्ट्रानिक इंजीनियर है। प्रतिभाशाली श्री वैश ने यह डिग्री स्वर्णपदक के साथ उत्तीर्ण की। कुछ समय इण्डियन रेल्वे सेवा में बिताने के बाद आयएएस परीक्षा उत्तीर्ण कर प्रशासनिक सेवा में आए। श्री वैश प्रकृति से वैज्ञानिक है और नए अनुसंधान में उनकी गहन रूचि है। उन्होंने जेम्स व डायमण्ड की संरचना पर कई प्रयोग किए है। भारतीय प्रशासनिक सेवा में वे जहां भी रहे उनके बंगले में एक कमरा उनकी प्रयोगशाला के लिए अवश्य होता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *