आईपीएस फलणीकर का बयान: विजयवर्गीय ने कभी बदतमीजी नहीं की

जूते वाली फोटो वायरल होने से दुखी हुए फलणीकर
भोपाल। चिंदी का सांप कैसे बनता है? यह कोई सोशल मीडिया से पूछे। सोशल मीडिया की विश्वसनीयता पर उस समय एक और धब्बा लग गया जब आईपीएस प्रमोद श्रीपाद फलणीकर और पूर्व इंदौर के महापौर की तस्वीर को गलत तरीके से वायरल किया गया। चंद घंटों में यह तस्वीर इस कदर वायरल हुई कि घटना से आहत आईपीएस श्री फलणीकर को इस मामले में सच्चाई उजागर करने को जहां मजबूर होना पड़ गया है वहीं उन्हें इस घटना से खासा दुख भी इसलिए पहुंचा है क्योंकि जो हुआ था उसे छुपा लिया गया और जो नहीं हुआ था उसे परोस दिया गया। यह घटना यह साबित करती है कि सोशल मीडिया दिनों दिन अपनी विश्वनीयता खोता जा रहा है। बेहतर है कि सोशल मीडिया पर कोई भी पोस्ट को इधर से उधर करने से पहले उसकी सच्चाई जान लें वरना आपके द्वारा की गई पोस्ट किसी की छवि खराब कर सकती है वहीं किसी का दिल भी दुखा सकती है।
दरअसल भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के हाथ में जूता उठाए और सामने खड़े आईपीएस प्रमोद श्रीपाद फलणीकर की फोटो वायरल होने से श्री फलणीकर को काफी दुख पहुंचा है। वर्तमान में एनएसजी के आईजी के पद पर पदस्थ श्री फलणीकर ने एएनआई को दिए गए बयान में स्पष्ट किया की फोटो के साथ जो लिखा जा रहा है वह गलत है। उन्होंने कहा कि सामान्यत: यदि कोई विवाद होता है तो वहां चेहरे पर तनाव होता है, पुलिस अधिकारी के ऐसे मामले में संबंधित अधिकारी एवं साथी अधिकारी भी चुप नहीं रह सकते, जबकि फोटो में ऐसा कुछ नहीं है। सूत्र बताते हैं कि श्री फलणीकर ने कहा कि यह तस्वीर उस समय की है जबकि श्री विजयवर्गीय इंदौर में पानी की समस्या हो लेकर प्रदर्शन कर रहे थे, मेरे कहने पर उन्होंने प्रदर्शन तो समाप्त कर दिया था लेकिन मुझे अपने जूते दिखा रहे थे कि आपके कहने पर प्रदर्शन तो खत्म कर दिया है लेकिन नगर निगम के चक्कर लगा लगाकर मेरे जूते घिस गए है। श्री फलणीकर ने कहा कि फोटो की टाईमिंग और उससे जुड़े घटनाक्रम के बारे में गलत खबर वायरल की जा रही है, जिससे मुझे दुख पहुंचा है। उन्होंने कहा कि गलत खबर वायरल होने से मुझसे मेरे परिचित और बच्चे फोन करके पूछ रहे हैं। श्री फलणीकर ने कहा कि कैरियर के इस स्तर पर आने के बाद मुझे जूते से पीटने की सफाई देनी पड़े यह दुखद है। गौरतलब है कि भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश विजयवर्गीय द्वारा नगरनिगम कर्मचारियों पर बल्ला उठाने संबंधित खबरों के साथ यह पुरानी फोटो लगातार कोट की जा रही थी कि कैलाश विजयवर्गीय ने भी आईपीएस प्रमोद फलणीकर पर जूता उठाया था। गौरतलब है कि आईपीएस प्रमोद श्रीपाद फलणीकर की गिनती बेहद ईमानदार और कर्तव्य के प्रति सजग अफसरों में होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *